ISRO का full form : Indian Space Research Organization होता है.

इसरो – भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के लिए है। यह दुनिया की सबसे बड़ी अंतरिक्ष एजेंसियों में से एक है। यह देश के लिए विशिष्ट विशिष्ट उपग्रह उत्पादों और उपकरणों का विकास करता है जैसे प्रसारण, संचार, मौसम पूर्वानुमान, भौगोलिक सूचना प्रणाली, टेलीमेडिसिन, दूरस्थ शिक्षा उपग्रह आदि। एएस किरण कुमार 2015 के इसरो के अध्यक्ष हैं।

दृष्टि: ग्रहों की खोज और अंतरिक्ष विज्ञान अनुसंधान का पीछा करते हुए राष्ट्रीय विकास के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का दोहन करना

ISRO का इतिहास

इसरो की स्थापना 1969 में हुई थी और यह भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग के अधीन काम करता है। अंतरिक्ष विभाग खुद प्रधानमंत्री और अंतरिक्ष आयोग के अधिकार में आता है। इसरो अंतरिक्ष विज्ञान और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग में लगा हुआ है और राष्ट्रीय लाभ के लिए काम करता है।

डॉ। विक्रम साराभाई को भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के पिता के रूप में जाना जाता है।

 

इसरो के लक्ष्य और उद्देश्य

इसरो का मुख्य उद्देश्य अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी विकसित करना और इसे विभिन्न राष्ट्र कार्यों में लागू करना है।

ISRO की उपलब्धियां

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने अपनी स्थापना के बाद से कई मील के पत्थर हासिल किए हैं, पहला भारतीय उपग्रह, आर्यभट्ट से लेकर रोहिणी, ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (PSLV) और जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च वाहन (GSLV)।

 

इन्हें भी पढ़े

Video of ISRO